/ / मयूरासन (Peacock Pose)

मयूरासन (Peacock Pose)

इस आसन में मयूर अर्थात मोर की आकृति बनती है. इसलिए इसे ‘मयूरासन’ कहा जाता है। अंग्रेजी में इसे Peacock Pose कहते है।

Mayurasana

मयूरासन करने की विधि (Peacock Pose Step by Step Guide)

Step 1: सबसे पहले दोनों घुटनों को जमीन पर टिकाकर लैट जाएं।

Step 2: अब दोनों हाथ की हथेलियों को जमीन पर इस प्रकार रखें कि सब अंगुलियों पैर की दिशा में हो और परस्पर लगी रहे।

Step 3: इसके बाद दोनों हाथों की कुहनियों को मोड़कर पेट के पास नाभि के अगल बगल रखें। अब दोनों पैरों को पीछे की ओर लंबा करके श्वास छोड़ते हुए दोनों पैरों को जमीन से ऊपर उठाएं और सिर को थोड़ा नीचे झुकाये।

Step 4: इस स्थिति में संपूर्ण शरीर का वजन केवल दो हथेलियों पर ही रहेगा। जितना समय रह सके उतना समय इस स्थिति में रहकर फिर मूल स्थिति में आ जाये।

याद रहे शरीर को ऊपर उठाते समय श्वास बाहर छोड़ना चाहिए और शरीर को नीचे की और करने पर स्वास लेना चाहिए। इस आसान को दो-तीन बार करें। और पढ़ें: शल्भासन (Locust Pose)

विशेष: इस आसन को करने के लिए शरीर का संतुलन बनाए रखना बेहद जरूरी है, जो कि पहली बार में संभव नहीं। यदि आप रोजाना मयूरासन का अभ्यास करेंगे तो आप निश्चित तौर पर कुछ दिन में पारंगत हो जाएंगे।

मयूरासन के लाभ (Benefits of Peacock Pose in Hindi)

यह शरीर में रक्त प्रवाह बढ़ाता है। कंधे मजबूत होते हैं, तनाव दूर होता है तथा चेहरे की चमक और सुंदरता बढ़ती है। यह आसन शरीर के विषैले द्रव्यों का शोधन कर उसे स्वास्थ्य और शक्ति प्रदान करता है। और पढ़ें: चक्रासन (Wheel Pose)

मयूरासन के दौरान पाचन तंत्र के अंगों में दबाव पढ़ता है जिससे गुर्दे, अग्न्याशय और आमाशय के साथ यकृत इत्यादि को बहुत लाभ होता है।

यह उदर विकार को नष्ट कर आँतों को दोषों से मुक्त रखता है। यह पाचन शक्ति को मजबूत बनाता है। पेट से संबंधित रोग, जैसे कब्ज, अपच, गैस आदि में फायदेमंद साबित होता है। मधुमेह से पीड़ित रोगियों के लिए भी यह मुद्रा लाभकारी है। और पढ़ें: गरुडासन (Eagle Pose)

सावधानी (Precaution)

इस आसन में शरीर का पूरा भार हाथों पर टिका होता है, इसलिए इस आसन को करते वक्त बहुत सावधानी बरतने की आवश्कयता होती है।

  • इस आसन के बाद सिर के बल किए जाने वाले आसनों का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • गर्भवती महिला, कलाई-हड्डी कमजोर, उच्च रक्तचाप, हार्निया या पेट में अल्सर होने पर भी इसका अभ्यास वर्जित है।
4.9/5 - (83 votes)