/ / गरुड़ासन (Eagle Pose)

गरुड़ासन (Eagle Pose)

इस आसन को करते समय शरीर का आकार गरुड़ (एक प्रकार का पक्षी) तरह हो जाता है इसलिए इसका नाम ‘गरुड़ासन’ (Garudasana) पढ़ा। इसे इंग्लिश में Eagle Pose कहते हैं।

गरुड़ासन करने की विधि (How to do Garudasana in Hindi)

Step 1: सवर्प्रथम आसन पर सीधे खड़े हो जाइए।

Step 2: अब दाहिने पैर में बायाँ पैर बेल की तरह ऐसे लपेटिए जिसमें बाएँ पैर का घुटना दाहिने पैर के घुटने पर रहे। व इस बात का प्रयत्न करना चाहिए कि बाएँ पैर का पंजा दाहिने पैर के पंजे से छू जाए।

Step 3: इसी प्रकार दोनों हाथों को भी मुँह के सामने लाकर पैरों की तरह एक दूसरे में लपेटिए।

Step 4: शरीर की इस स्थिति में धीरे-धीरे नीचे बैठने का प्रयास करें। कुछ समय रुककर सामान्य स्थिति में आ जाएँ।

Garudasana

Step 5: इसके पश्चात् दोनों पैरों को थोड़ा सा झुककर लिपटे हुए पैर के अंगूठे से ज़मीन छूने का प्रयत्न करे।

प्रारम्भ में झुकते समय कुछ सहारा लिया जा सकता है। बारी-बारी से हाथों व पैरों को बदलते रहे। इससे आसन का पूरा लाभ मिलेगा।

समय: यह आसन कुछ कठिन है अतएव थोड़े समय से आरम्भ करके क्रमश: 2-5 मिनिट तक अभ्यास बढ़ाना चाहिए।

गरुड़ासन करने से लाभ (Benefits of Eagle Pose in Hindi)

इस आसन से हाथ पैर मज़बूत व सुडौल होते हैं उनकी नाड़ियाँ और हड़ियाँ दृढ़ होती हैं। ये साइटिका और हाथ-पैर के वात का निवारण करता है। यह बहुमूत्र तथा किडनी के विकारों को दूर करता है।

सावधानी: गर्भवती महिलाओं को इसका अभ्यास नहीं करना चाहिए।

4.9/5 - (113 votes)